नई धार

— १७ नवम्बर २००१

समय की धार के इस पार
मैं खड़ा, तुम उस पार।
मैं तरूँ, थोड़ा तुम आ जाओ।
आ बह निकलें इस धार संग।

नहीं।
मैं तरूँ उस ओर या तुम इस छोर
आ बस जाएँ हम किनारे पर।
बह जाने दो इस धार को।

एक दूजे की बाहों में
सिमट कर
पिघल कर
आ बह जाएँ
एक नई धार बनकर
समय से दूर
बहुत दूर
आ बह जाएँ
एक नई धार का स्रोत
बनकर।

Leave a Reply